Ultimate guide13 Basic OnPage SEO Tips Hindi गूगल में पहले रैंक करे

Published by Bhaskar on

 Basic OnPage SEO Tips Hindi

आज के समय का blogging बहुत ज्यादा competetive है इसलिए बहुत लोग सोचते हैं की क्या 2020 में अपने targated keyword पर rank हो पाउँगा तो इसका जवाब है हाँ . आप न सिर्फ अपने मन चाहे keywprd पर rank करेंगे बल्कि बहुत ज्यादा free search traffic भी लाएंगे.

तो अगर आपको ऐसा लगता है कि seo बहुत हार्ड है तो इसके लिए यह पोस्ट है, पर मैं आपको एक बात और बोला चाहूंगा कि अगर आप सोच रहे हैं कि basic Seo करके आप गूगल पर हाई रैंक हासिल कर जाएंगे तो यह थोड़ा मुश्किल काम है।

basic seo tips hindi

एक बात अलग से बोलना चाहूंगा कि हिंदी जितने भी beginner ब्लॉगर हैं उनको SEO की बहुत कम जानकारी होती है, ऐसा इसलिए है क्योंकि SEO के बारे में बहुत ही कम blog पोस्ट है इंटरनेट पर हिंदी में. इस पोस्ट में हम लोग seo fundamental जानेंगे SEO success

करने के लिए। तो चलिए अब इस पोस्ट की शुरुआत करते हैं।

Search intent को समझें keyword use करें।

आप किसी भी ब्लॉग पोस्ट को seo optimized नहीं कर सकते हैं जब तक कि आप ना समझ ले कि सर्चर क्या खोज रहा है।

यह आप कैसे पता करें इसका सबसे आसान तरीका है गूगल आप जिस भी keyword के लिए गूगल पर rank करना चाहते हैं उसे गूगल पर सर्च करें और जो कीवर्ड सजेस्ट हो रहा है उसका इस्तेमाल करें अपने पोस्ट में। एक और तरीका है keyword पता करने का कॉमन सेंस जी हां common sense बहुत अच्छा तरीका है new keyword पता करने का।

जैसे कि कोई होटल रन करता है पटना में तो उसका कीवर्ड हो सकता है होटल्स इन पटना, प्लेस टो स्टे इन पटना इस तरह का कीवर्ड हो सकते हैं उसके काम का।

इस तरह से आप आसानी से समझ सकते हैं कि searcher क्या सर्च कर रहा है गूगल पर।

जब आप अपनी कीवर्ड के बारे में अच्छे से पता कर ले तो उसे एक नोट बुक में लिख ले क्योंकि हम भूल सकते हैं उस कीवर्ड को।

हम खोजे गए सारे keyword को SEO Optimized title tag के लिए भी करेंगे।

अब हमने कीवर्ड्स के बारे में तो पता कर लिया है कि हमें keyword का इस्तेमाल करना है अपने पोस्ट में तो अब हम अपनी पोस्ट को लिखना शुरु करेंगे।

SEO Optimized ब्लॉग पोस्ट लिखे।

हम सभी जानते हैं कि गूगल पर rank करने के लिए अपने पोस्ट का SEO अच्छे से करना होता है लेकिन आखिर ब्लॉक पोस्ट SEO करेंगे कैसे। तो इस सेक्शन में हम लोग इसी के बारे में जानने वाले हैं तो हमारे साथ बने रहे।

ब्लॉग पोस्ट लिखने के लिए हम सारे कीवर्ड्स का इस्तेमाल करेंगे जो पहले खोजा था।

आप जब भी कोई नया पोस्ट लिखें तो आप हमेशा ध्यान रखें कि आपका पोस्ट well structured हो मतलब कि आपको H1 H2 H3 tiltle tags का इस्तेमाल करना है सही तरीके से और उसमें आपका targated keyword जरूर होना चाहिए।

blog post optimization में आपके वेबसाइट का UI बहुत ज्यादा matter करता है, तो इस बात का ध्यान जरूर रखें।
और अब हम यहां से शुरू करेंगे अपना On page Optimization।

मान लीजिए अगर आपने बहुत अच्छा कंटेंट लिखा अपनी keyword के लिए लेकिन उसे आपने सर्च इंजन के लिए ऑप्टिमाइज नहीं किया है तो इन सब कोई फायदा नहीं है।

अभी गूगल ने थोड़ा बदलाव किया है इस लिए बहुत लोगो breadcrumb error आ रहा है.

इस पोस्ट में हम लोग बहुत सारे On page optimization tips के बारे में जानेंगे जिसका इस्तेमाल करने वाले लेकिन उससे पहले अगर आप वर्डप्रेस यूज़ करते हैं तो आप सबसे पहले SEO Plugin इंस्टॉल करें जैसे कि Yoast SEO या फिर RankMath SEO Plugin इन, यह दोनों प्लगिंस फ्री है और इसमें सबसे ज्यादा अच्छा है Rank Math SEO Plugin है, मैं इसी का इस्तेमाल करता हूं।

keyword का इस्तेमाल कहां-कहां करें

  • Post Title में
  • Meta Description में
  • Content में
  • URL में

Search Intent का इस्तेमाल करें

शुरुआत में मैंने बताया था कि सर्चिंग टेंट क्या होता है। आमतौर पर सर्च इंजन 3 तरह के होते हैं।

  1.  नेवीगेशनल
  2.  इनफॉरमेशनल
  3. ट्रांजैक्शनल

हम थोड़ा-थोड़ा तीनों Search Intent के बारे में जानेंगे

सबसे पहले आता है Navigational Intent, इस तरह के इंटेंट का मतलब है कि यूज़र कहीं जाना चाहता है ऐसे की एयरपोर्ट, मॉल, हॉस्पिटल, स्कूल।

दूसरा है informational intent इस तरह में वह किसी टॉपिक के बारे में जानना चाहता है।

और तीसरा इंटेंट है ट्रांजैक्शनल(transactional) मतलब कि यूजर कुछ खरीदना चाहता है जैसे कि बेस्ट हेडफोन, बेस्ट स्मार्टफोन।

इस तरह की कीवर्ड्स का इस्तेमाल अपने ब्लॉग पोस्ट में हर जगह करें लेकिन जहां जरूरत हो वहां, keyword stuffing बिल्कुल भी नहीं करें यह आपको नुकसान पहुंचाएगा, नुकसान का मतलब है कि आज पूरे के पूरे सर्च रिजल्ट से ही बाहर हो जाएंगे।

मैं आपको यह बात बता देता हूं कि अगर आप सर्च intent अच्छे से समझ जाते हैं तो आप बहुत सारे keyword के लिए रैंक कर सकते हैं इसलिए मैं search Intent के बारे में बता रहा हूं।

Search Intent समझने का सबसे अच्छा तरीका है क्या कि पता करने की कोशिश करें कि आपके बारे में लोग गूगल पर कैसे सर्च कर सकते हैं।

शॉर्ट डिस्क्रिप्टिव URL का इस्तेमाल करें

किसी भी वेब पेज का यूआरएल सर्च इंजन को उस पर्टिकुलर पोस्ट के टॉपिक के बारे में बताता है, मतलब आप समझ गए कि आपको अपने कीवर्ड का इस्तेमाल यूआरएल मे करना है उसको छोटा रखे लेकिन उसमें अपना कीवर्ड जरूर डालें।

short url

अपने यूआरएल को जितना सिंपल रख सकते हैं रखें।

मेटा टाइटल और डिस्क्रिप्शन

यही 2 चीजें देखकर कोई भी यूजर आपके वेबसाइट पर आता है तो इसको ऐसा रखें कि उसमे आपका कीवर्ड मतलब कि जो यूजर खोज रहा है उसके बारे में थोड़ी सी जानकारी हो तभी वह आपकी वेबसाइट को देखेगा और आएगा।

और गूगल के जैसे सर्च इंजन मेटा डिस्क्रिप्शन और मेटा टाइटल का ही इस्तेमाल करती है रैंकिंग देने के लिए यह बहुत बड़ा रैंकिंग सिंगल होता है।

meta description

एक बात ध्यान रखिएगा गूगल कभी-कभी आपके दिए गए टाइटल टैग का इस्तेमाल नहीं करता है। title को अट्रैक्टिव रखें और ऐसा कोशिश करें कि उसमें सस्पेंस की फील आए।

आप का टाइटल छोटा होना चाहिए मतलब कि 60 कैरेक्टर का होना चाहिए अगर इससे ज्यादा होगा तो सर्च रिजल्ट पर कट जाएगा और आपका डिस्क्रिप्शन 160 करैक्टर का ही होना चाहिए उससे ज्यादा होगा तो सच रिजल्ट में नहीं दिखेगा।

अपने ब्लॉग पोस्ट में h1 h2 और h3 जरूर इस्तेमाल करें h1 तो आप का टाइटल हो जाएगा तो आप अपने ब्लॉग पोस्ट में h2 h3 h4 जरूरी यूज़ करें।

इन टैग्स का इस्तेमाल करने से आपके ब्लॉग पोस्ट में सेक्सन बन जाएंगे जो यूजर को आसानी होगा पढ़ने और समझने में।

लंबी ब्लॉग पोस्ट लिखने में इन सारे tags का इस्तेमाल करना चाहिए अगर कोई पोस्ट बहुत लंबा है तो उसकी रैंकिंग अच्छी होती है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उस पोस्ट में ज्यादा इंफॉर्मेशन होगा उस टॉपिक से रिलेटेड।

ऑप्टिमाइज इमेज

कोई भी इमेज किसी इंसान को बहुत अच्छा लगता है लेकिन कोई भी सर्च इंजन उस इमेज को पहचान नहीं सकता कि उस इमेज में क्या है या फिर किस बारे में है।

तू इसीलिए हम लोग इमेज को optimize करते हैं ताकि कोई भी सर्च समझेंगे पहचान सके जान सके कि वह इमेज किस बारे में है।

हम सभी जानते हैं कि कोई भी search engine इमेज को नहीं पहचान पाता है अच्छे से इसलिए हम लोग यूज़ करते हैं alt text(Alternative Text)।
Image Optimize करने के लिए आप इमेज फाइल का नाम अपना टारगेटेड कीवर्ड रखें और जब भी उसे अपने ब्लॉक पोस्ट पर ऐड करें तो इमेज alt Text में भी अपना कीवर्ड इस्तेमाल करे। ऐसा करने के लिए इमेज पर क्लिक करें और एडिट बटन पर क्लिक करें आप अपना alt text डालने और सेव करें।

Schema markup

अपने वेबसाइट में इसकी schema markup का इस्तेमाल करें

यह फीचर yoast SEO में paid है लेकिन RankMath Plugin में फ्री है इसका इस्तेमाल करके आप अपने सर्च रिजल्ट में रेटिंग ऐड कर सकते हैं।

schema markup

Sitemap create करें

अपने वेबसाइट का sitemap में गूगल और दूसरे सर्च इंजन में जरूर सबमिट करें। सर्च इंजन में साइटमैप सबमिट करने से यह फायदा होगा कि सर्च इंजन को पता चल जाएगा कि आप की वेबसाइट पर क्या-क्या है।
जिससे वह आसानी से आपकी वेबसाइट को रैंकिंग दे पाएगा।

Interlinking करें

OnPage Optimization के लिए इंटरलिंकिंग बहुत जरूरी है इसका मतलब यह होगा कि आप जो ब्लॉक पोस्ट लिख रहे हैं उससे रिलेटेड दूसरी पोस्ट को भी उसमें जोड़ेंगे, इससे इससे आपका page authority बढेगा। इंटरलिंकिंग बहुत जरूरी ऑन पर ऑप्टिमाइजेशन स्ट्रेटजी है।

अगर आपके वेबसाइट पर बहुत अच्छी से इंटरलिंकिंग की गई है तो यह अच्छा सिंगल जाएगा गूगल को जिससे यह पता चलेगा कि आपका वेबसाइट बहुत ही ज्यादा रिसोर्सेस फुल है।

ऐसा करने से आपके ब्लॉग को बहुत ही ज्यादा SEO boost मिल सकता है।

Social media par share करें

सोशल शेयरिंग बहुत ही अच्छा रैंकिंग signal है सोशल शेयरिंग बढ़ाने के लिए आप अपने पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करें जैसे कि पिंटरेस्ट टि्वटर फेसबुक।

और यह भी कोशिश करें कि आपका पोस्ट बहुत ज्यादा शेयर हो ऐसा करने के लिए आपका पोस्ट लंबा हो मतलब 1000 से 2000 वर्ड लंबा अगर होगा तो उसके ज्यादा चांसेस है कि उस शेयर होगा सोशल मीडिया पर।

तो अगर यह पोस्ट अच्छा लगे तो इसे जरूर शेयर करें क्योंकि अभी मैंने बताया ना शेयरिंग कितना जरूरी है।

बैकलिंक्स बनाएं

backlink बनाने का मतलब यह है कि कोई दूसरा ब्लॉग पर या वेबसाइट पर आपका ब्लॉग का लिंक है इससे यह साबित होता है कि आपका ब्लॉग अच्छा है और दूसरा कोई आपके बारे में बात कर रहा है जिससे Google बहुत ही स्ट्रांग रैंकिंग सिग्नल जाता है।

Spammy Backlink बिल्कुल भी न बनाये, इसका मतलब यह है कि आपका पोस्ट मान लीजिए SEO पर है और आपने उसका लिंक ऐसी जगह पर बनाया जहां पर किसी tech रिलेटेड टॉपिक पर बात हो रही है तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं करेंगे, बहुत ही बैड और वीक रैंकिंग सिग्नल है जिससे आपको रैंकिंग में बहुत ज्यादा नुकसान होगा।

बैकलिंक बनाने का एक और फायदा है इससे आपकी DA के साथ-साथ PA बढेगा।

Blog की लोडिंग स्पीड बढ़ाएं और रेस्पॉन्सिव बने

गूगल ने ऑफिशियल बोल दिया है कि पेज लोड टाइम एक रैंकिंग फैक्टर है मतलब कि अगर आपका पेज धीरे लोड होता है तो उसको रैंकिंग अच्छी नहीं होगी खास करके मोबाइल पर।

webpage load time ghataye

लोड टाइम कम होना इसलिए जरूरी है कि कि अगर कोई user है आपके वेबसाइट पर क्लिक करता है और वह खुल रहा है खुल रहा है खुल रहा है तू क्या करेगा ज्यादा टाइम लगेगा तो वह आपके वेबसाइट से बाउंस करके दूसरे की वेबसाइट पर चला जाएगा जो बहुत खराब है गूगल को लगेगा कि आपका वेबसाइट ठीक नहीं है आपको रैंकिंग नीचे होनी चाहिए और आपसे जो पीछे होगा उसको ऊपर रैंकिंग मिल जाएगी मिल जाएगी।

धीरे लोडिंग से आप पर बाउंस रेट बढ़ जाए।

अपने ब्लॉग को हर तरह की डिवाइस पर खुलने के लायक बनाएं मतलब कि आप अपनी वेबसाइट को responsive बनाये डेस्कटॉप, टेबलेट और मोबाइल के लिए जिससे आपकी यूजर एक्सपीरियंस अच्छी हो जाएगी.

SSL certificate ka istemal करें

अपने ब्लॉग को https पर रन करे, गूगल ने बोल दिया है कि यह एक रैंकिंग फैक्टर है, आप जब भी किसी वेबसाइट पर विजिट करते हैं तो आपको आपके ब्राउज़र में एक पैड लॉक दिखता है जो यह बताता है कि कोई पर्टिकुलर वेबसाइट सिक्योर है या नहीं।

SSL Certificate फ्री में मिलता है जैसे कि cloudflare या फिर लेटइंक्रिप्ट अपने वेबसाइट पर इंस्टॉल कर सकते हैं फ्री में।

Robots.txt file upload करें

Sitemap में बताता है कि आपके भी साइट पर क्या-क्या है लेकिन robots.txt बताता है किसी भी सर्च इंजन को किस पेज को रैंक करना है मतलब कि आपके वेबसाइट किस सेक्शन को search result में rank करना है और किस को रैंक नहीं करना।

robots.txt फाइल होना जरूरी इसलिए क्योंकी सर्च इंजन अपने किसी भी क्रॉलर को इंस्ट्रक्शन देता है कि एक बार में कितने पेज को विजिट करना है किसी वेबसाइट पर इसलिए यह जरूरी है कि आप गूगल को या किसी भी सर्च इंजन को इंस्ट्रक्शन दे दे कि आपको किस पोस्ट को या किस पेज को बिल्कुल भी रैंक करने की जरूरत नहीं है।

अपने ब्लॉग को सर्च इंजन में सबमिट करें

यह लास्ट स्टेप है इस इस पूरे पोस्ट का मतलब कि आप को आप अपने ब्लॉग को सर्च इंजन में सबमिट करना है। आप अपने सर्च इंजन को गूगल और Bing में जरूर सबमिट करें।

इसका फायदा क्या होगा, इसका फायदा यह होगा कि आप यह जान पाएंगे किस-किस कीवर्ड से आपको ट्रैफिक आ रहा है, और आप यह भी जान पाएंगे कि आप किसी particular keyword के लिए सर्च रिजल्ट में किस पोजीशन पर रैंक कर रहे हैं।

किसी भी सर्च इंजन की console का इस्तेमाल करके आप आसानी से अपने रैंकिंग को ट्रैक कर सकते हैं जैसे कि आपके किसी keyword पर कितना इंप्रेशन आया किस पोजीशन पर है उसका CTR क्या है कितने clicks है इस तरह की बातें यहीं से पता चलता है।

OnPage Optimization थोड़ा मुश्किल हो सकता है लेकिन अगर आप फ्री में ट्रैफिक चाहते हैं जो कि हर कोई को चाहिए होता है और यह जरूरी है. मतलब कि अगर आप Organic traffic चाहते हैं तो SEO करना जरूरी है और और इसी का इस्तेमाल करके आप लगातार अपने ब्लॉग पर बहुत ज्यादा ट्रैफिक ला सकते हैं।

हो सकता है कि इसका रिजल्ट आपको लिखने में थोड़ा समय लेकिन इसका रिजल्ट बहुत ही ज्यादा अच्छा होता है लॉन्ग टर्म में।
इन Basic SEO Tips को अपनाने के बाद आप खुद एक्सपेरिमेंट कर सकते है की आपके लिए कौन सा ऑप्टिमाइजेशन अच्छे से काम कर रहा है, देखिये SEO एक learning process है इसमें आपको लगातार सीखना होता है.

वैसे SEO का full form Search Engine Optimization होता है मतलब की किसी भी web page को Search engine के result में लेन का process अब ये process पहले page पर आना भी सकता है या फिर top 3 में रैंक करना भी हो सकता है.